आमिर और शाहरुख़ के बाद झारखण्ड के पहले मुख्यमंत्री को भी लगने लगा है डर

ज्योति चौहान
रांची: आमिर खान, आमिर खान की पत्नी किरण, शाहरुख़ खान और न जाने कितने फ़िल्मी सितारों ने हिन्दुस्तान में रहने के माहौल को डर के नाम से जोड़ा था।
अब इनकी श्रेणी में झारखण्ड राज्य के पूर्व (सौभाग्य से प्रथम) मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी भी आ गए हैं। इन्होंने 7 जनवरी को अपने प्रधान कार्यालय में आदिवासी मोर्चा की बैठक बुलाई थी। जहाँ आदिवासी मोर्चा के विस्तार और समस्या- समाधान पर चर्चा हो रही थी। झारखण्ड के कई जिलों से आये आदिवासियों को संबोधित करते हुए, उन्होंने भाजपा को लपेटे में लिया।

भाजपा पर संविधान को बदलने की तैयारी के आरोप लगाये। उन्होंने कहा की भाजपा लोकतंत्र को समाप्त करने की कोशिश कर रही है। भाजपा लोगों को वोट बैंक के आधार पर बाँटने का काम करती है।

बाबूलाल आदिवासी समाज़ को अपनी ओर आकर्षित करने के फ़िराक में यूँ बोलते चले गए…, और वो भी बोल बैठे जो उन्हें नहीं बोलना चाहिए था। बाबूलाल ने कहा कि मुझे अब उस रात नींद नहीं आती जब कोई पर्व- त्यौहार होता है। डर लगता है न जाने कब कोई दंगा हो जाये।
मन में डर बना रहता है..,जब भी पर्व-त्योहार में कोई अप्रिय घटना घटती है, फोन की घंटी लगातार बजती रहती है। कोई बोलता है सर यहाँ ये हो रहा है, कोई वहां ऐसा हो गया…..।
बाबूलाल जी स्थानीयनीति (डोमिसाइल) तो याद कर लेते..,एक बार।
error: Content is protected !!
WhatsApp chat

हमारे मासिक पत्रिका समृद्ध झारखण्ड की अपनी प्रति आज ही सुरक्षित करने के लिए पर क्लिक करें।