ढुल्लू को दिया मुंह तोड़ जवाब, गढ़ में घुसकर किया कार्यक्रम,10 हजार से ज्यादा लोगों का हुआ जुटान

गिरिडीह: महज सप्ताह भर के अंदर भाजपा प्रकाशन विभाग के राष्ट्रीय प्रमुख शिव शक्ति बक्सी ने बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो की चुनौती का जवाब दबंग स्टाइल में ही दे दिया।
डॉ. बक्सी ने दिल्ली में रहकर भी अपनी जमीनी पकड़ के बल पर कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की और ढुल्लू का गढ़ यानी बाघमारा के बॉर्डर इलाके तोपचांची में किसान चौपाल लगाकर ढुल्लू को मुंहतोड़ जवाब दिया है।

दरअसल पिछले दिनों बोकारो के कार्यक्रम में ढुल्लू महतो ने कहा था कि शिव शक्ति बक्सी की औकात उनसे लड़ने की नहीं है। उन्होंने उन्हें चुनौती देते हुए कहा था कि वह किसी भी विधानसभा क्षेत्र में कार्यक्रम करके तो दिखा दें।

देखें ढुल्लू महतो का बयान

उन्होंने कहा था कि 10 हजार लोगों की भीड़ जुटाकर दिखाएं तब मानेंगे कि जनता के बीच उनकी पैठ है। शिव शक्ति बक्सी ने ना सिर्फ 10 हजार से ज्यादा की भीड़ जुटाकर उनकी चुनौती का जवाब दिया, बल्कि अन्य नेताओं को भी यह जता दिया कि दिल्ली में 20 साल से रहने के बावजूद भी जमीन पर उनकी पकड़ कमजोर नहीं हुई है।
आपको बता दें कि शिव शक्ति बक्सी मूल रूप से गिरिडीह के ही निवासी हैं। गिरिडीह में उन्होंने छात्र आंदोलन से राजनीति में कदम रखा था। कालांतर में वे दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में पहुंचे और वहां अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़कर लगातार 3 साल तक परिषद के अध्यक्ष बने रहे।
बाद में वे दिल्ली स्टेट एबीवीपी के सह मंत्री भी बनाए गए। विद्यार्थी जीवन के बाद उन्होंने भाजपा का मुखपत्र कमल संदेश में बतौर कार्यकारी संपादक अपना योगदान देना शुरू किया।

वर्षों से इस सेवा से जुड़े रहने के बाद पिछले साल उन्हें भाजपा प्रकाशन विभाग का राष्ट्रीय प्रमुख बनाया गया। इस बीच उन्होंने दिल्ली की राजनीति में भी अपनी गहरी पैठ जमाई। हालांकि इस दौरान लगातार उनका गिरिडीह भी आना जाना लगा रहा और सामाजिक व राजनीतिक रुप से यहां से भी उनका जुड़ाव रहा।
यही वजह है इस बार लोकसभा चुनाव में उन्हें एक प्रबल दावेदार के रूप में माना जा रहा है। तोपचांची में हुए किसान चौपाल के बाद लोगों में यह विश्वास जगा है वह वाकई एक जमीनी नेता है और भविष्य में झारखंड के राजनीत की दशा और दिशा तय करने में निश्चित रुप से अपना योगदान देंगे।
समृद्ध झारखण्ड के लिए गिरिडीह से प्रियंका शक्ति की रिपोर्ट…
error: Content is protected !!
WhatsApp chat

हमारे मासिक पत्रिका समृद्ध झारखण्ड की अपनी प्रति आज ही सुरक्षित करने के लिए पर क्लिक करें।