रिलायंस और सावन तैयार करेंगे 1 अरब डॉलर का म्यूजिक प्लेटफॉर्म

डिजिटल इंटरटेनमेंट सर्विस का दायरा होगा व्यापक: आकाश अंबानी


अभिषेक सहाय

रांची/मुम्बई: डिजिटल इंटरटेनमेंट में आरजियो ने शानदार इंट्री मारी है। रि‍लायंस इंडस्‍ट्रीज की इकाई आरजियो के निदेशक आकाश अंबानी के नेतृत्व में सोमवार को डिजिटल म्यूजिक सर्विस सावन के विलय के समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। सावन और जियो म्यूजिक एक साथ आते हुए डि‍जि‍टल मीडिया प्लेटफॉर्म तैयार करेंगे और इसकी पहुंच वैश्विक होगी साथ ही इसका बाजार मूल्य एक बिलियन डॉलर से अधिक होगा।

मौके पर रिलायंस जियो के निदेशक आकाश अंबानी ने कहा कि सावन के साथ इस निवेश का मकसद इस मीडियम को बढ़ावा देना है। साथ ही यूजर्स को डिजिटल एंटरटेनमेंट से जुड़ी सर्वि‍स देने की हमारी प्रतिबद्धता को दिखाता है। हमारा मानना है कि इससे हम भारतीय स्ट्रीमिंग बाजार में प्रमुख स्थिति हासिल करेंगे। रिलायंस इंडस्ट्रीज अपने डिजिटल म्यूजिक सर्विस जियोम्यूजिक को सावन के साथ मिलाएगी।


रि‍लायंस इंडस्‍ट्री ने कहा है कि‍ सावन के लि‍ए हुई कैश और स्‍टॉक डील के बाद मर्ज होने वाली कंपनी में मुकेश अंबानी की कंपनी रि‍लायंस जि‍यो की हि‍स्‍सेदारी 75 फीसदी होगी। वहीं, जि‍यो म्‍यूजि‍क की वैल्‍युएशन करीब 67 करोड़ डॉलर हो जाएगी।


उन्होंने यह भी कहा कि सावन के साथ इस साझेदारी की घोषणा करने में खुशी हो रही है। हम मानते हैं कि उनकी उच्च अनुभवी प्रबंधन टीम, जियो-सावन को एक बड़े नेटवर्क के विस्तार में सहायक होगी। जिससे भारतीय स्ट्रीमिंग बाजार में हमारी नेतृत्व की स्थिति को मजबूत करेगा।

सावन के सीईओ ऋषि मल्होत्रा ने कहा कि लगभग 10 साल पहले हम ये सोच रहे थे कि एक म्यूजिक प्लेटफॉर्म तैयार किया जाना चाहिए, जो साउथ एशिया संस्कृति को वैश्विक स्तर पर पेश कर सके। रिलायंस जियो के साथ हमारा करार इसे और ऊपर ले जाएगा व आसान बनाएगा।

गौरतलब है कि ट्राई की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक जियो ने जनवरी महीने में 83 लाख नए यूजर जोड़े है। वहीं अन्य कंपनियां भारती एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया ने केवल 15 लाख, 12.8 लाख और 11.4 लाख नए कस्टमर ही जोड़े हैं। जियो लगातार अपनी बढ़त बनाए हुए हैं। जियो ने भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में अपनी 14 फीसदी हिस्सेदारी बना ली है। रिलायंस जियो तेजी से अपनी पहुंच बढ़ाती जा रही है। कंपनी ने टेलीकॉम सेक्टर में एंट्री के बाद से ही अपने प्रतिद्वंदियों को कड़ी टक्कर दे रखी है।

रिलायंस इस उपक्रम में करीब 100 मिलियन डॉलर का निवेश करेगी और इसमें 20 मिलियन का निवेश अपफ्रंट होगा। उसके बाद प्लेटफार्म के विकास और विस्तार के साथ ये विश्व का एक सबसे बड़ा स्ट्रीमिंग प्लेटफार्म होगा।

संयुक्त बयान में कहा गया है, “एकीकृत व्यापार को वैश्विक पहुंच, सीमा पार की मूल सामग्री, एक स्वतंत्र कलाकार बाज़ार, समेकित डेटा और सबसे बड़े मोबाइल विज्ञापन माध्यमों के साथ भविष्य के मीडिया प्लेटफॉर्म में विकसित किया जाएगा।”

सौदा के एक हिस्से के रूप में, अतिरिक्त रूप से, रिलायंस सावन के मौजूदा शेयरधारकों से 104 मिलियन अमरीकी डालर के लिए आंशिक हिस्सेदारी प्राप्त करेगी। सावन के शेयरधारक आधार में टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, लिबर्टी मीडिया और बर्टल्समैन शामिल हैं।

सावन, ऋषि मल्होत्रा, परमदीप सिंह और विनोद भट्ट के तीन सह-संस्थापक, उनके नेतृत्व की भूमिकाओं में बने रहेंगे और संयुक्त इकाई के विकास को बढ़ावा देंगे।

लगभग 10 साल पहले, हमारे पास दुनिया भर में दक्षिण एशियाई संस्कृति को समर्पित एक जुड़े संगीत मंच का निर्माण करने का एक दर्शन था। सावन के सह-संस्थापक और सीईओ ऋषि मल्होत्रा ​​ने कहा कि रिलायंस के साथ हमारा संरेखण हमें दुनिया के सबसे बड़े, सबसे तेज़ी से बढ़ते और सबसे ज्यादा सक्षम मीडिया प्लेटफॉर्म बनाने में सक्षम बनाता है।

भारत और विश्व स्तर पर 1 अरब से अधिक उपयोगकर्ताओं के बड़े पैमाने पर संबोधित बाजार अवसर के साथ, संयुक्त इकाई विकास, जिसने उपयोगकर्ताओं, संगीत लेबल, कलाकारों और विज्ञापनदाताओं सहित पारिस्थितिकी तंत्र के सभी पहलुओं को लाभ पहुंचाएगा और दोनों समूहों की इसमें तेजी लाने के लिए आक्रामक तरीके से निवेश करने की योजना है।

संयुक्त प्लेटफार्म सावन के कलाकार मूल (एओ) पर भी निर्माण करेगा, जिसने भारत और दक्षिण एशिया के कुछ शीर्ष रिकॉर्ड जैक नाइट और जैसमीन वालिया की बॉम डिग्गी सहित दिए हैं। कुलमिलाकर आरजियो डिजिटल इंटरटेनमेंट में वर्ल्ड क्लास ब्रांड बनने की दिशा में एक कदम और आगे बढ़ चुका है।

error: Content is protected !!
WhatsApp chat

हमारे मासिक पत्रिका समृद्ध झारखण्ड की अपनी प्रति आज ही सुरक्षित करने के लिए पर क्लिक करें।