शिविर के बहाने रोजगार की खोज

रांची: हातमा में शराब से हुई मौतों ने महिलाओं को गोलबंदी कर दिया। इस गोलबंदी के बाद राष्ट्रिय शहरी स्वास्थ्य मिशन, रांची के बैनर तले रूपम व सत्यप्रकाश के अगुवाई में निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर लगवाया गया।

हातमा के राजकीय विद्यालय में लगे शिविर में “एक पंथ कई काज” के तहत राज्य खादी बोर्ड के अध्यक्ष संजय सेठ व रांची की मेयर आशा लकड़ा का आगमन हुआ। शिविर में आये हातमा के लोगों की रोजगार, साफ- सफाई, शौचालय, स्वास्थ्य केंद्र आदि समस्याओं पर चर्चा हुई। महिलाओं ने अपने हुनर से सभी को अवगत कराया।

शराब से एक साथ छः मौतों के बाद हातमा सहित आसपास की महिलाओं ने लाठी उठाकर शराब की दुकानें, सामानों और बर्तनों को तोड़ने और पुरजोर विरोध करना शुरू किया। शराब में लगे लोगों की व्यवसाय खत्म हो गई। अब उन्हें किस तरह रोजगार से जोड़ा जाय…! इसपर गहन अध्ययन करने के बाद रूपम और सत्यप्रकाश ने एक निःशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन करवाकर मेयर व खादी बोर्ड के अध्यक्ष संजय सेठ को अतिथि बुलाया।

जहां वे जन- समस्याओं से रूबरू ही नहीं बल्कि उसका तत्काल हल निकाल दें। हुआ भी कुछ ऐसा ही…,आशा लकड़ा ने शराब को रोजगार से नकारते हुए कहा कि झारखण्ड अपने खाना- खजाना के लिए एक अलग पहचान बनाये हुए हैं। हमारे पास हमारी पकवान है।

महिलाएं दुसका, चावल की रोटी- घुघनी, पिठ्ठा, मड़वे की पकवान बनावें। कैसे नहीं बिकेगी। लोगों को ये सब खाने मिलता ही कहाँ है? महिलाएं चाह ले तो शाम 4 बजे से 7 बजे तक अपने घर के बाहर पकवान की दुकान लगाकर स्वरोजगार से जुड़ जाए। वहीं शौचालय की बात करते हुए उन्होंने कहा कि इसी विद्यालय के आस- पास शौचालय का निर्माण कराया जा सकता है। साफ- सफाई के लिए स्थानीय वार्ड पार्षद से कहा कि हर रोज यहां निगम की गाड़ी आएगी, हर रोज गंदगी ले जायेगी।

इधर झारखण्ड राज्य खादी बोर्ड के अध्यक्ष अपने कर्मचारियों- पदाधिकारियों सहित पहुंचे। एक साथ बैठकर स्थानीय महिलाओं, केंद्रीय सरना समिति के अध्यक्ष फूलचंद्र उराँव, पाहन व कार्यक्रम के अगुवाई कर्ता रूपम, सत्यप्रकाश के साथ बैठक की। जिसमें उन्होंने महलाओं से खादी बोर्ड की योजनाओं, ट्रेनिंग व नई- नई सामग्रियों की उपलब्धता पर विस्तार से बात की। श्री सेठ ने महिलाओं को सिलाई सेंटर देने की बात पर जगह मुहैया करवाने को कहा।

जिस स्थान पर शिविर का आयोजन किया गया, उसी स्थान ( सरना मध्य विद्यालय) के लिए उपायुक्त को आवेदन देकर सेंटर लेने को कहा। उन्होंने कहा कि जिस दिन आप बोर्ड को स्थान देंगे, उसके ठीक पंद्रह दिन बाद यहां ट्रेनिंग शुरू हो जायेगी।

श्री सेठ ने स्थानीय महिलाओं को शराब पूर्ण रूप से बंद कराने वाले पहल के लिए साधुवाद दिया। मुख्यमंत्री की घोषणा का चर्चा करते हुए कहा कि बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ और बेटी बढ़ाओ को धरातल पर लाने के क्रम में एक और कड़ी जुड़ गई गई है, जिसमें महिला समितियों के समूह को सरकार स्वरोजगार के लिए फंड मुहैया कराएगी। उन्होंने कहा कि यह घोषणा हातमा से शुरू हो तो “सोने पे सुहागा” होगा।

मौके पर राज्य खादी बोर्ड के डिप्टी सीईओ आर. सी. बसेरा, ट्रेनर दीनदयाल शर्मा, निशा मेहता, सहित सैकड़ों की संख्या में स्थानीय लोग मौजूद थे।

इधर शिविर में सदर अस्पताल रांची से डॉ राजीव भूषण, डॉ अन्नु बॉबी, लोक स्वास्थ्य प्रबंधक तबरेज अहमद, जीवन एक्का, चम्पा कुमारी, श्रीकांत, उर्मिला, ललिता तिर्की, समीना मौजूद थी।

इधर एसजीभिएएस अस्पताल और रिसर्च सेंटर खूंटी सांसद कड़िया मुण्डा सांसद के सौजन्य से संचालित एम्बुलेंस के साथ निःशुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर लगाने पहुंची टीम। जिसमें मयुरी मिंज, उमेश महतो, मीनाक्षी, सरिता, राखी, संजय वोदरा, असीम, कुणाल मौजूद थे।

error: Content is protected !!
WhatsApp chat

हमारे मासिक पत्रिका समृद्ध झारखण्ड की अपनी प्रति आज ही सुरक्षित करने के लिए पर क्लिक करें।