शुभम हत्याकांड: प्रबंधन है लापरवाह: आरती कुजूर

चाईबासा: जिले के चक्रधरपुर अनुमंडल मुख्यालय के चक्रधरपुर सिद्धू कान्हू शिक्षा निकेतन आवासीय विद्यालय के छात्र शुभम महतो की हुई हत्याकांड मामले को लेकर सरकार और प्रशासन ने जाँच शुरू कर दी है।
पुलिस की जाँच में यह भी सामने आ रहा है की हत्या से पहले शुभम के साथ अप्राकृतिक यौनाचार भी हुआ है। इधर इस घटना की सुचना मिलने पर बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष आरती कुजूर ने आवासीय विद्यालय की जाँच की, जिसमें कई विद्यालय से लेकर होस्टल में खामियां पायी गयी हैं।
शुभम की हत्या से आवासीय विद्यालय में ऐसी सनसनी फैली है की बच्चे डरे हुए हैं और अभिभावक अपने बच्चों को वापस अपने घर लेने आ रहे हैं।
उन्होंने न सिर्फ शुभम हत्याकांड की जानकारी ली बल्कि आवासीय विद्यालय के गर्ल्स और बॉयज होस्टल, स्कुल, किचन, शौचालय आदि का भी निरिक्षण किया। स्कुल के नन टीचिंग स्टाफ से लेकर टीचिंग स्टाफ से उन्होंने एक- एक कर जानकारी ली।
स्कुल के सभी खास दस्तावेजों को खंगाला। पुरे विद्यालय के शिक्षण प्रणाली और व्यवस्था को खंगालने की पूरी कोशिश की। शुभम हत्याकांड में आरोपी वार्डन से लेकर प्रिंसिपल तक से श्रीमति कुजूर ने पूछताछ की।
इस दौरान खामियों को देखकर स्कुल प्रबंधन समिति पर सख्ती से भी पेश आई। प्रिंसिपल चैंबर में तेल पिलाया हुआ छड़ी देख वह बेहद गुस्से में आ गयी। उन्होंने स्कुल प्रबंधन समिति से पूछा ये किस काम के लिए स्कुल में रखा गया है। इसके बाद खुद को उस छड़ी से मारकर भी देखा। किचन और शौचालय में गंदगी देखकर वह बिफर पड़ी। इतने बड़े कैम्पस में सीसीटीवी और घेराबंदी नहीं होने से नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा की सुरक्षा के दृष्टिकोण से स्कुल ने बहुत लापरवाही बरती है।
शुभम हत्याकांड में स्कुल प्रबंधन के द्वारा पुलिस को देर से सुचना देने के मामले को भी आरती कुजूर ने गंभीर बताया है।
इधर शुभम के लापता होने और चार दिन बाद उसकी हत्या की खबर से स्कुल का एक- एक छात्र डरा सहमा हुआ है। हर छात्र की आँखों में खौफ देखा जा रहा है। कोई फोन से घर पर वापस घर लौटने की जिद कर रहा है तो किसी के माता- पिता बच्चे को स्कुल में देखने पहुंचे हैं। कई तो ऐसे भी हैं जो अपने बच्चे को वापस अपने साथ घर ले जाना चाहते हैं। इस आवासीय विद्यालय की सुरक्षा से सभी का विश्वास टूट गया है।
पुलिस की शुरूआती जांच में जो तथ्य सामने आ रहे हैं वो सभ्य समाज को और भी शर्मिंदा कर रहा है। पुलिस की शुरूआती जाँच में पता चला है की शुभम के साथ अप्राकृतिक यौनाचार की कोशिश भी की गयी होगी। आठ साल के शुभम के अधजली लाश के पोस्टमार्टम के बाद इस बात को और भी बल मिल रहा है। पुलिस का कहना है की वे हर बिंदु पर जांच कर रहे हैं और जल्द ही इसका उद्भेदन कर दिया जायेगा।
बता दें कि कक्षा तीन के छात्र शुभम की हत्या ने सभी को झकझोर कर रख दिया है। सभी चाहते हैं की शुभम के साथ जिसने भी ज्यादती की और उसकी निर्मम तरीके से जान ली उसे कानून सख्त से सख्त सजा दे। लेकिन इस मामले में जिस तरह से शुभम के विद्यालय ने लापरवाही का नमूना पेश किया है उसे बर्दाश्त करना मुश्किल है। अब समय आ गया है की लापरवाह स्कुल के खिलाफ सरकार कड़े कदम उठाये।
समृद्ध झारखण्ड के लिए चाईबासा से संतोष वर्मा की रिपोर्ट…
error: Content is protected !!
WhatsApp chat

हमारे मासिक पत्रिका समृद्ध झारखण्ड की अपनी प्रति आज ही सुरक्षित करने के लिए पर क्लिक करें।