Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

सीएम ने किया रिम्स के ट्रॉमा सेंटर का उद्घाटन, डाॅक्टरों संग बैठक

0 7

- Sponsored -

- sponsored -

एडमिट मरीजों के ठहरने हेतु 245 बेड के विश्रामगृह का शिलान्यास
रांची: रिम्स को अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होकर एक बेहतरीन सुपर अस्पताल बनाने के लिए रविवार को सीएम रघुवर दास ने राज्य के पहले अत्याधुनिक ट्रॉमा सेंटर, रिम्स प्रशासनिक भवन और 500 बेड के हॉस्टल का सामूहिक रुप से उद्घाटन किया। उन्होंने इस बाबत पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के सहयोग से 245 बेडो वाले वाले विश्रामगृह की आधारशिला भी रखी। इसके बाद रिम्स के डॉक्टरों के साथ बैठक कर उनके प्राइवेट प्रैक्टिस को लेकर एसपीबी जांच के विरोध में वीआरएस लेने जैसे मुद्दों को बातचीत कर हल करने का प्रयास किया।
सीएम ने कहा कि प्रशासनिक भवन निर्माण में लागत 23 करोड़ 82 लाख, ट्रामा सेंटर में 64 करोड़ व छात्राओं के हाॅस्टल निर्माण में कुल 89.70 लाख की लागत आएगी। इसके अलावे मरीजों के साथ रिम्स आने वाले परिजनों को परेशानी न हो इसके लिए 15 करोड़ की लागत से विश्राम सदन की आधारशिला रखी गई है। सीएम ने कहा कि इसका निर्माण 15 माह के भीतर कर लिया जाएगा। फिलहाल महज 10 बेड से ही ट्राॅमा सेंटर शुरु हो चुका है। इसके प्रभारी डाॅ प्रदीप भट्टाचार्या ने बताया कि हालांकि प्रबंधन से 30 बेड से इसके आरंभ करने को लेकर निर्देश दिये थे, लेकिन थर्ड- फोर्थ ग्रेड में बहाली व नई मशीनों व उपकरणों के आने के बाद एक माह के भीतर पूरी तरह से फंक्शनल कर दिया जाएगा। ट्रॉमा सेंटर के भवन में चार फ्लोर बनाए गए हैं व इसमें कुल 100 बेड होंगे।

[URIS id=9499]

 

इसमें 50 बेड ट्रामा के मरीजों व 50 बेड इमरजेंसी के लिए है। ग्राउंड फ्लोर पर इमरजेंसी वार्ड है। पहले फ्लोर पर ऑपरेशन थिएटर व कॉन्फ्रेंस हॉल बनाया गया है। ट्रॉमा सेंटर में जरुरत के आधार पर चिकित्सकों सहित 125 कर्मचारियों की बहाली प्रक्रिया जारी है। तीन शिफ्ट में 12- 12 चिकित्सकों द्वारा यहां डयूटी दी जाएगी।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

सीएम ने कहा, कि रिम्स में ज्यादातर गरीब मरीज इलाज कराने आते हैं व उनके साथ उनके परिजन भी होते हैं। गरीब की पीड़ा मैं समझता हूं। परिजनों को होटल या किराए में आश्रय न लेने के उद्देश्य से ही विश्राम सदन बनवाया जा रहा है, ताकि उन्हें आर्थिक बोझ ना पड़े। उन्होंने 108 एम्बुलेंस का सवार्धिक लाभ गरीब व जनजाति क्षेत्र के लोगों को मिल रहा है। सीएम ने कहा कि 23 सितंबर तक 57 लाख परिवारों को 5 लाख को निःशुल्क गोल्डन कार्ड दे दिया जाएगा, इसके लिए 400 करोड़ के अतिरिक्त बजट का प्रावधान किया गया है। कहा कि 25 लाख गरीब परिवारों को गोल्डेन कार्ड दिया गया है व बाकि 30 लाख परिवार को 23 सितंबर 5 लाख के स्वास्थ्य बीमा योजना से आच्छादित कर दिया जाएगा। कहा कि जल्द ही हर घर में बिजली 24 घंटे मिलने लगेगी।
लोड सेटिंग पर उपभोक्ता को मिलेगा हर्जाना: आरके सिंह
100 बेड की अतिरिक्त व्यवस्था करें
इस मौके पर केंद्रीय विद्युत व नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) आर के सिंह ने कहा कि रिम्स की जरूरत के आधार पर विश्राम सदन में 100 बेड की अतिरिक्त व्यवस्था हो। इस बाबत जमीन उपलब्ध करा दिया गया है। केंद्र सरकार इसकी अनुमति पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड को देती है। कहा कि केंद्र सरकार का संकल्प है वन नेशन वन ग्रिड। 2014 से पूर्व बिजली से वंचित लोग सोचते थे कि क्या कभी उनके घरों तक बिजली पहुंचेगी, लेकिन 2014 के बाद से निरंतर विद्युतिकरण का टारगेट 100 फीसदी पंहुचाने का प्रयास अंतिम चरण में है। अब 24 घंटे बिजली देने का लक्ष्य हर हाल में पूरा करना है। यह कहने की बात नहीं बल्कि अगर लोड शेडिंग हुआ तो सरकार उपभोक्ता को हर्जाना भी देगी।
रिम्स बदल रहा: चंद्रवंशी
स्वास्थ्य, शिक्षा एवं परिवार कल्याण मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने कहा कि मौजूदा समय के आधार पर रिम्स को बेहतर करने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है और इस बाबत मिले संसाधनों के आधार पर रिम्स में बदलाव दिखने लगा है। सरकार मरीजों को यहां हर प्रकार की सुविधाओं से लैश करेगी, ताकि गरीब मरीजों को कोई दिक्कत ना हो। मौके पर रांची के सांसद संजय सेठ, कांके विधायक डॉ जीतू चरण राम, सचिव स्वास्थ्य विभाग डॉ नितिन मदन कुलकर्णी, निदेशक रिम्स डी के सिंह, सीएमडी पावर ग्रिड कारपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के रवि प्रकाश सिंह, रिम्स के निदेशक डी के सिंह, रिम्स के चिकित्सक, शिक्षक, पारा मेडिकल स्टाफ व अन्य लो मौजूद थे।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -