Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

अब चक्रवात बुलबुल का खतरा, अगले छह घंटे में ले सकता है भयंकर रूप

0 18

- Sponsored -

- sponsored -

कोलकाता : चक्रवाती तूफान बुलबुल को लेकर मौसम विभाग ने अलर्ट किया है. मौसम विभाग के अनुसार, अगले छह घंटे में यह भयंकर रूप ले सकता है. मौसम विभाग के अनुसार, ओडिशा एवं पश्चिम बंगाल में इसका तटीय असर दिख सकता है. बंगाल की खाड़ी के पूर्व मध्य में इसका केंद्र है. भारतीय मौसम विभाग ने बताया है कि बुलबुल के प्रभाव क्षेत्र में हवा की रफ्तार 70 से 80 किलोमीटर दर्ज की गयी है. जबकि केंद्र में 90 किलोमीटर प्रति घंटे इसकी रफ्तार है. इसके कारण भारी बारिश की आशंका है.

भारतीय मौसम विभाग के क्षेत्रीय निदेशक जीके दास ने बताया है कि चक्रवात बुलबुल कोलकाता से 930 किलोमीटर दक्षिण एवं दक्षिणपूर्व में स्थित है जिसके गुरुवार रात्रि को मजबूत होने की संभावना है. शनिवार को यह ताकतवार होकर बहुत गंभीर श्रेणी में पहुंच जाएगा, जिससे समुद्र में विपरीत स्थिति बन सकती है. चक्रवात को देखते हुए मछुआरों को गुरुवार शाम तक वापस लौटने एवं अगले आदेश तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गयी है.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -


जीके दास ने बताया है कि चक्रवात को उत्तर-उत्तरपश्चिम में पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तट की ओर रुख करने की संभावना है और इसकी अधिकतम गति 115 किलोमीटर से 125 किलोमीटर तक हो जाएगी, जबकि तूफान के केंद्र में इसकी गति 140 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो जाएगी.

बुलबुल चक्रवात को देखते हुए केंद्र भी सक्रिय हो गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसको लेकर चिंता जतायी है. प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव पीके मिश्रा ने ओडिशा, पश्चिम बंगाल और अंडमान निकोबार द्वीप समूह के मुख्य सचिवों के साथ बैठक की. इसमें प्राकृतिक आपदा से निबटने की तैयारियों की समीक्षा की गयी.

बुलबुल चक्रवात के कारण पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों में अगले एक-दो दिन में भारी बारिश की आशंका है.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -