Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

अलग सोच ही आपकी अलग पहचान बनायेगा: मुख्य सचिव

0 10

- Sponsored -

- sponsored -

रांची: झारखंड के मुख्य सचिव डाॅ डीके तिवारी ने कहा है कि स्टार्टअप मौजूदा समय की मांग है, वहीं इससे जुड़नेवालों से कहा कि देखें वह सारी चीजें जो सब देखते हैं, लेकिन सोचे ऐसा जिसे गिने- चुने लोग सोच पाते हैं। यही मूल तथ्य है, जो जीवन के हर क्षेत्र में आपको दूसरे से अलग करेगा। डाॅ तिवारी शनिवार को होटल बीएनआर चाणक्य में सूचना प्रौद्योगिकी विभाग की ओर स आहूत दो दिवसीय झारखंड स्टार्टअप हैकाथन 2019 के उदघाटन के मौके पर देशभर से चयनित होकर पंहुचे स्टार्टअप इंटरप्रेन्योर को संबोधित कर रहे थे।
मुख्य सचिव ने कहा कि प्राचीन भारत में ऋषि- मुनियों की चिंतन परंपरा से हमें जीवन को आसान बनाने के टिप्स मिलते थे। आज के डिजिटल युग की समस्याएं व आवश्यकताएं अलग हैं। लिहाजा उसका समाधान भी अलग होगा। समाधान की राह रिसर्च, इनोवेटिव आइडिया व वैल्यू एडिशन से होकर निकलेगी। स्टार्टअप का मूल फंडा भी यही है। सीएस ने कहा कि अस्पताल, ट्रैफिक, बिजली, पानी, प्रदूषण, कचरा प्रबंधन जैसे तमाम सरकारी सेवा के क्षेत्र हैं, जहां राज्य को इनोवेटिव अइडिया के साथ स्टार्टअप की जरूरत है। वहीं राज्य में अनेक भाषा- भाषी के लोग हैं, जिनके स्पीच और स्क्रिप्ट को रियल टाइम अनुवाद के स्टार्टअप की जरूरत है।

[URIS id=9499]

उन्होंने बताया कि कुछ दिन पहले चीनी राजदूत मुख्यमंत्री से मिलने आए थे, उनके कान में एक ऐसा डिवाइस लगा था, जो मुख्यमंत्री की हिंदी को चीनी भाषा में तत्काल अनुदित कर रहा था। मुख्य सचिव ने बताया कि स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए झारखंड सरकार की सुस्पष्ट पॉलिसी है। इसके तहत ग्रुप के हर सदस्य को 8500 रुपये स्टाइपेंड दी जाती है। साथ ही प्रोटोटाइप डेवलपमेंट के लिए 10 लाख रुपये तक, रेंटल रिब्रसमेंट का 50 फीसदी, पेटेंट के लिए आवेदन देने का सौ फीसदी तथा एसजीएसटी के लिए सौ फीसदी सहायता का प्रावधान है। हैकाथन में हिस्सा ले रहे प्रतियोगियों को कुल छह क्षेत्रों में झारखंड सरकार को इनोवेटिव साल्यूशन देना है। इसमें निबंधित 400 प्रविष्टियों में से 50 को झारखंड सरकार ने चुना है। इसमें से चयनित सबसे अच्छे प्रोजेक्टों को एक लाख रुपये का पुरस्कार भी दिया जाएगा। वहीं स्कूलों के वर्ग नौ से 12 तक के जूनियर इनोवेटर को 50 हजार रुपये देकर पुरस्कृत किया जाएगा।
- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

यह भी पढ़ें:

पीएम उज्जवला योजना: 14 लाख नये लाभुकों को मिलेगा गैस

उन्होंने कहा कि अभी कई क्षेत्रों में कुछ नया काम नहीं हुआ है, ऐसे क्षेत्र व विषयों को युवा खोजें और स्टार्टअप करें। उन्होंने स्टार्टअप के माध्यम से युवाओं को लीडर ऑफ द वर्ल्ड बनने के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि इसी विजन के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को विश्व की तीसरी सबसे बड़ी आर्थिक शक्ति बनाने की ओर प्रयत्नशील हैं। मौके पर आईटी सचिव विनय कुमार चौबे ने कहा कि आज हम स्टोन एज से डिजिटल एज में पहुंच गए हैं व झारखंड का आईटी विभाग इनोवेशन व आइडिया को प्रमोट कर रहा है। हैकाथन में अमेजन के सचिन पुनयानी, नासकॉम के निरूपम चौधरी, लेट्सवेंचर के संजय कुमार झा व इनटइट के विशी रंगनाथ, आइआइएम के अनिश सुगाथम तथा आईटी डायरेक्टर उमेश साह ने भी स्टार्टअप को लेकर अपने विचार रखे।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -