Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना सरकार की उम्मीद बढी, पवार ने किया किनारा

0 6

- Sponsored -

- sponsored -

 

मुंबई : महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी एवं शिवसेना सरकार की उम्मीद एक बार फिर बढ गयी. दोनों दलों ने साझा चुनाव लड़ा था और बहुमत हासिल किया है, लेकिन छोटे सहयोगी के तौर पर उभरी शिवसेना ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद के बंटवारे पर अड़ी है, इसी कारण अबतक सरकार नहीं बन पायी. भाजपा के वरिष्ठ नेता सुधीर मुनगंटीवार ने आज मीडिया से कहा कि हमें खबर के लिए इंतजार करना चाहिए और अच्छी खबर कभी भी आ सकती है. उन्होंने कहा कि आप कितना भी कोशिश कर लें पानी को अलग नहीं कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि भाजपा एवं शिवसेना एक साथ हैं और आज किसानों के मुद्दे पर हमारी अच्छी बैठक हुई है.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

मुनगंटीवार से पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने कहा कि भाजपा एवं शिवसेना को मिल कर सरकार बनाना चाहिए, क्योंकि उन्हें इसके लिए बहुमत मिला है. उन्होंने कहा कि हमें सरकार गठन का जनादेश नहीं मिला है और हम एक मजबूत विपक्षी की भूमिका निभाएंगे. उन्होंने कहा कि भाजपा व शिवसेना को जल्द सरकार बनाना चाहिए. मालूम हो कि आज सुबह शिवसेना नेता संजय राउत ने पवार से मुलाकात की थी. इसके बाद एनसीपी चीफ ने कहा था कि वे चार बार मुख्यमंत्री रहे हैं और उन्हें मुख्यमंत्री बनने की बेसब्री नहीं है.

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि मौजूदा हालात में कांग्रेस क्या फैसला लेगी इसकी उन्हें जानकारी नहीं है. उल्लेखनीय है कि शिवसेना खेमे से यह संदेश देने की कोशिश की गयी थी कि वह भाजपा के बिना विपक्षी गठबंधन के सहयोग से सरकार बना सकती है. लेकिन, अब एनसीपी चीफ के किनारा कर लेने से उसके पास विकल्प नहीं बचेंगे और उसे भाजपा के साथ ही जाना होगा. ऐसी स्थिति में वह अपने लिए अधिकतम मोलभाव करना चाहेगी.

उधर, कांग्रेस नेता व पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चह्वाण ने कहा है कि मौजूदा हालात में भाजपा ने अपने सहयोगी को विश्वास में नहीं लिया है. उन्होंने कहा कि शिवसेना क्यों नाराज है और दोनों के बीच तनाव बना हुआ है. उन्होंने कहा कि जबतक उनके बीच कोई समाधान नहीं है तबतक शिवसेना को गठबंधन से अलग हो जाना चाहिए.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -